Sunday, 29 March 2009

कालेजों को फरमान, नए सत्र में प्रवेश पर रोक

गढ़वाल मंडल में सेल्फ फाइनेंस कोर्स चला रहे पौने दो सौ से ज्यादा कालेजों के हाथ-पांव फूले हुए हैं। केंद्रीय गढ़वाल विवि ने उन्हें अगले सत्र से प्रवेश प्रक्रिया रोकने के निर्देश जारी किए हैं। विवि यह फरमान तकरीबन 50 सरकारी व सहायताप्राप्त अशासकीय डिग्री कालेजों के लिए भी जारी करने जा रहा है। गढ़वाल मंडल में एफिलिएशन के मुद्दे का जिन्न एक बार फिर बोतल से बाहर निकल गया है। नए कालेज व सेल्फ फाइनेंस कोर्स के इच्छुक कालेज तो एफिलिएशन को तरस रहे हैं। अब गढ़वाल विवि से एफिलिएट 189 निजी कालेजों की परेशानी बढ़ गई है। इसकी वजह विवि की ओर से जारी किए गए निर्देश हैं। केंद्रीय विवि के एक्ट में फिलहाल चालू सत्र में कालेजों का एफिलिएशन जारी रखने की बात कही गई है। विवि ने अगले सत्र में कालेजों को एफिलिएशन जारी रहने के बारे में नीति तय नहीं की है। यह माना जा रहा है कि निजी कालेजों की बड़ी तादाद को साथ रखने में केंद्रीय विवि शायद ही राजी हो। शिक्षा की गुणवत्ता के लिए एफिलिएशन का दायरा बेहद सीमित अथवा खत्म भी किया जा सकता है। विवि के प्रभारी कुल सचिव प्रो. एलजे सिंह ने तमाम निजी कालेजों को पत्र जारी कर वर्ष 2009-10 में प्रवेश पर रोक लगा दी है।

No comments:

Post a comment