Saturday, March 20, 2010

पहाड़ की तकदीर बदल सकता है कम्युनिटी बेस्ट टूरिज्म

-जीबी पंत संस्थान ने भी गढ़वाल क्षेत्र के त्रिजुगीनारायण एवं सिरसी गांवों में इस सेवा को शुरु करने की पहल पहाड़1- पलायन के चलते एक-एक कर खाली हो रहे प्रदेश के पर्वतीय गांवों लिए कम्युनिटी बेस्ट टूरिज्म एक नई उम्मीद लेकर आया है । इसके जरिये स्थानीय लोग अपने घरों की ओर लौट रहे हैैं बल्कि देश विदेश के पर्यटकों को होम स्टे एकमोडेशन उपलब्ध करा कर आर्थिकी का जरिया भी बना रहे हैैं । कुमाऊं के विसर क्षेत्र में विलेज वे द्वारा शुरु की गई होम स्टे एकमोडेशन स्कीम के बाद अब जीबी पंत संस्थान ने भी गढ़वाल क्षेत्र के त्रिजुगीनारायण एवं सिरसी गांवों में इस सेवा को शुरु करने की पहल की हैैं । इसके तहत स्थानीय स्थानीय लोग देश-विदेश से आये पर्यटकों को उचित दरों अपने घरों में ठहरने की व्यवस्था करते हैैं और वर्षो से खाली पड़े ये पारंपरिक घर उनकी आर्थिकी का जरिया बनते हैैं। गोविंद वल्लभ पंत पर्यावरण विकास संस्थान की गढ़वाल इकाई के अभय ने बताया कि विलेज वे के द्वारा कुमाऊं में चलाई गई इस स्कीम की सफलता के बाद उनके संस्थान ने भी गढवाल में यह सेवा शुरु करने की पहल की है । इस स्कीम के तहत पहले चरण में त्रिजुगीनारायण एवं सिरसी गांवों में इस सेवा को शुरु करने की पहल की हैैं। तथा इन घरों के लोगों को प्रशिक्षित किया जा रहा हैैं। खूब हो रही है कमाई- कुमाऊ के विसर क्षेत्र में जिन गावों में विलेज के द्वारा होम स्टे स्कीम चलाई गई हैैं वहां पर ग्र्रामीण टूरिस्ट से एक रात स्टे के एक हजार से पंद्रह सौ रुपये तक लेते है । विसर क्षेत्र के ग्र्रामीणों ने विदेशों से भी सीधी बुकिंग शुरु कर दी है ।

1 comment:

  1. आपका लेख सहारनीय है

    ReplyDelete