Saturday, September 27, 2014

उत्तराखंड में बीएड प्रशिक्षितों की बल्ले-बल्ले

टीईटी पास बीएड प्रशिक्षितों के लिए खुशखबरी। प्राइमरी शिक्षकों के रूप में उनकी भर्ती का रास्ता 31 मार्च, 2016 तक खुल गया है। इस संबंध में राज्य सरकार के प्रस्ताव पर केंद्र सरकार व एनसीटीई ने मुहर लगा दी है। इससे राज्य सरकार को भी खासी राहत मिली है।
सरकार अब 30 सितंबर के बाद बीएड टीईटी की भर्ती प्रक्रिया पूरी कर सकेगी। 1एनसीटीई ने इसी सितंबर माह तक ही टीईटी पास बीएड प्रशिक्षितों को नियुक्ति देने की अंतिम तिथि निर्धारित की थी। हाईकोर्ट से वरिष्ठता के आधार पर बीएड टीईटी पास बीएड प्रशिक्षितों की नियुक्ति का आदेश मिलने के बाद सरकार के लिए कम वक्त में नियुक्ति प्रक्रिया पूरी करने की बाध्यता थी। फिलहाल केंद्र सरकार ने बीएड प्रशिक्षितों और राज्य सरकार दोनों को ही बड़ी राहत दे दी है। एनसीटीई ने की मंजूरी मिली तो अगले दो वर्षो तक टीईटी पास बीएड अभ्यर्थियों को प्राइमरी शिक्षक बनने का मौका 31 मार्च, 2016 तक मुहैया करा दिया है। इस संबंध में एनसीटीई का पत्र राज्य सरकार को मिल चुका है। संपर्क करने पर अपर मुख्य सचिव एस राजू ने उक्त पत्र मिलने की पुष्टि की। पत्र 1 शेष पृष्ठ 4 पर 1राज्य ब्यूरो, देहरादून: टीईटी पास बीएड प्रशिक्षितों के लिए खुशखबरी। प्राइमरी शिक्षकों के रूप में उनकी भर्ती का रास्ता 31 मार्च, 2016 तक खुल गया है। इस संबंध में राज्य सरकार के प्रस्ताव पर केंद्र सरकार व एनसीटीई ने मुहर लगा दी है। इससे राज्य सरकार को भी खासी राहत मिली है। सरकार अब 30 सितंबर के बाद बीएड टीईटी की भर्ती प्रक्रिया पूरी कर सकेगी। 1एनसीटीई ने इसी सितंबर माह तक ही टीईटी पास बीएड प्रशिक्षितों को नियुक्ति देने की अंतिम तिथि निर्धारित की थी। हाईकोर्ट से वरिष्ठता के आधार पर बीएड टीईटी पास बीएड प्रशिक्षितों की नियुक्ति का आदेश मिलने के बाद सरकार के लिए कम वक्त में नियुक्ति प्रक्रिया पूरी करने की बाध्यता थी। फिलहाल केंद्र सरकार ने बीएड प्रशिक्षितों और राज्य सरकार दोनों को ही बड़ी राहत दे दी है। एनसीटीई ने की मंजूरी मिली तो अगले दो वर्षो तक टीईटी पास बीएड अभ्यर्थियों को प्राइमरी शिक्षक बनने का मौका 31 मार्च, 2016 तक मुहैया करा दिया है। इस संबंध में एनसीटीई का पत्र राज्य सरकार को मिल चुका है। संपर्क करने पर अपर मुख्य सचिव एस राजू ने उक्त पत्र मिलने की पुष्टि की।
साभार-दैनिक जागरण देहरादून 

No comments:

Post a Comment