Monday, April 22, 2013

अप्रवासी उत्तराखंडियों ने दिलाई उत्तराखंड को चंडीगढ़ से दो नई ट्रेनों की सौगात

चंडीगढ़ में टिहरी गढ़वाल विकास परिषद की ओर से लेजर वैली में सांस्कृतिक कार्यक्रम ‘अपणू मुल्क’ के आयोजन में रविवार देर रात तक बिखरी उत्तराखंड की संस्कृति की छटा सिटी ब्यूटीफुल से उत्तराखंड में कोटद्वार और ऋषिकेश के लिए दो नई ट्रेनें इसी साल शुरू की जाएंगी। ये ऐलान केंद्रीय रेल मंत्री पवन कुमार बंसल ने टिहरी गढ़वाल विकास परिषद की ओर से रविवार को यहां आयोजित रंगारंग कार्यक्रम ‘अपणू मुल्क’ के शुभारंभ पर किया।
उन्होंने कहा कि चंडीगढ़ से कुमाऊं में लालकुआं के लिए ट्रेन का ऐलान तो वह रेल बजट में ही कर चुके हैं। अमर उजाला के सहयोग से चंडीगढ़ सेक्टर-10 स्थित लेजर वैली में आयोजित कार्यक्रम में उत्तराखंड के लोगों की उमड़ी भीड़ को देखकर गदगद हुए रेल मंत्री पवन कुमार बंसल ने कहा कि शहर की समृद्धि में योगदान देने वाले गढ़वाली समाज की सुविधा के लिए वह नई ट्रेनें जल्द देने का प्रयास करेंगे। इससे चंडीगढ़ में रह रहे समाज के लोग अपनी जन्मभूमि से हर पल जुड़े रहें। गढ़वाल के लिए एक साथ दो ट्रेनों का ऐलान होते ही कार्यक्रम में मौजूद भारी भीड़ ने बंसल के समर्थन में नारे लगाने शुरू कर दिए। बंसल ने कहा कि वह उत्तराखंड के लोगों की जायज मांग को पूरा करके खुद को भी गौरान्वित महसूस कर रहे हैं। इस मौके पर केदारनाथ की विधायक शैला रानी रावत, केंद्रीय मंत्री हरीश रावत के पुत्र , उत्तराखंड के पूर्व मंत्री किशोर उपाध्याय, सूरवीर सिंह सजवाण और चंडीगढ़ के मेयर सुभाष चावला, पूर्व मेयर प्रदीप छाबड़ा और पार्षद गुरुबख्श रावत मौजूद रहीं। पुष्पा छोरी पौड़ी खाल की...पर झूमे गढ़वाली रविवार देर रात तक बिखरी उत्तराखंड की संस्कृति की छटा चंडीगढ़। जय हो नंदा देवी तेरी जय बोला.., पुष्पा छोरी पौड़ी खाल की... जैसी गीतों पर रविवार को उत्तराखंड के लोग देर रात तक झूमते रहे। अवसर था टिहरी गढ़वाल विकास परिषद की ओर से लेजर वैली में सांस्कृतिक कार्यक्रम ‘अपणू मुल्क’ के आयोजन में उत्तराखंड के प्रसिद्ध कलाकार गजेंद्र राणा और रेशमा शाह ने अपने गीतों पर लोगों को कदम थिरकाने के लिए मजबूर कर दिया। टिहरी गढ़वाल विकास परिषद के तत्वावधान में आयोजित कार्यक्रम में उत्तराखंड की संस्कृति का हर रंग दिखा। कार्यक्रम का संचालन जगदंबा प्रसाद बिजल्वाण ने किया। टिहरी गढ़वाल विकास परिषद के प्रधान बलवीर तोपवाल, महासचिव बुद्धि चंद डौटियाल और सांस्कृतिक सचिव विरेंद्र सजवाण ने बताया कि उत्तराखंड के सुप्रसिद्ध लोक कलाकारों ने प्रचलित लोकगीत थड़या चौंफला और जौनसार गीतों का जीवंत प्रदर्शन किया। कार्यक्रम में गढ़वाल सभा के अध्यक्ष कुंदनलाल उनियाल, महासचिव चंडीप्रसाद भटट, चमोली विकास परिषद के पूर्व प्रधान गुणानंद सेमवाल, उत्तराखंड कांग्रेस सेल के अध्यक्ष विरेंद्र रावत, बीबी बहुगुणा, जयपाल नेगी, भूपेंद्र शर्मा, लक्ष्मी प्रसाद नौटियाल, कुंवर सिंह पंवार और महादेव प्रसाद तिवारी सहित भारी संख्या में लोग उपस्थित हुए। बच्चों को संस्कृति से जोड़ रहे बुजुर्ग चंडीगढ़। टिहरी गढ़वाल के लोग भले ही अपनी जन्मभूमि से दूर हैं, लेकिन अपनी कर्मभूमि चंडीगढ़ में रहकर भी वह अपने बच्चों में पहाड़ की संस्कृति को जिंदा रखे हैं। इसका नमूना दिखाया नन्ही परी ऋचा शर्मा ने। उसने पहाड़ी गीत पर बड़ी मासूमियत से ऐसा डांस प्रस्तुत किया जिसे देखकर कहीं से नहीं लग रहा था कि वह चंडीगढ़ में पली-बढ़ी है। उसके कदमों पर दर्शकों के पैर भी झूम उठे। कार्यक्रम में पहुंचने वाले अतिथियों का स्वागत भी ढोल नगाड़ों से हो रहा था।

No comments:

Post a Comment