Friday, April 6, 2012

हे.न.ब.ग.विवि में तमाम गतिविधियां सातवे दिन भी ठप

गढ़वाल विवि की परीक्षाएं अगले आदेश तक स्थगित
श्रीनगर। हेमवती नंदन बहुगुणा गढ़वाल केंद्रीय विवि में नियुक्ति प्रक्रिया में धांधली और कुलपति को हटाने की मांग को लेकर मंगलवार को भी छात्र, शिक्षक और कर्मचारी संगठन मुखर नजर आए। प्रशासनिक भवन और अन्य विभागों में ताले लटके रहने से विवि में वार्षिक परीक्षा संबंधी कार्य के साथ ही तमाम गतिविधियां ठप पड़ गई हैं।

क्या था मामला--- हेमवती नंदन बहुगुणा गढ़वाल केंद्रीय विवि में बुधवार को असिस्टेंट रजिस्ट्रार की भर्ती परीक्षा के उपरांत निर्धारित समय पर रिजल्ट न खोले जाने और ओएमआर सीट और प्रश्नपत्र में गड़बड़िया होने के विरोध को लेकर परीक्षार्थियों ने जमकर हंगामा किया। इसके चलते विवि प्रशासन को लिखित परीक्षा में चयनित अभ्यर्थियों की सूची फाइनल करने में भारी दिक्कतों से होकर गुजरना पड़ा। अभ्यर्थियों के विरोध को देखते हुए विवि के अधिकारियों को एक-एक करके प्रशासनिक भवन से भागना पड़ा।
गढ़वाल केंद्रीय विवि में बुधवार को असिस्टेंट रजिस्ट्रार के रिक्त पांच पदों के लिए लिखित परीक्षा आयोजित की गई थी। 31 मार्च तक उक्त पदों पर नियुक्ति किए जाने के कारण विवि को बुधवार को ही लिखित परीक्षा में चयनित अभ्यर्थियों की सूची विवि प्रशासनिक भवन में चस्पा करनी थी। इसके लिए विवि ने शाम साढ़े चार बजे का समय निर्धारित किया था, लेकिन अपने चहेतों को उक्त पदों पर नियुक्ति दिलाने, प्रश्नपत्र में गड़बड़ियों और समय पर चयनित अभ्यर्थियों की सूची चस्पा न करने पर अभ्यर्थियों ने वहां जमकर हंगामा काटा। अभ्यर्थियों ने इस दौरान कुलसचिव कार्यालय के सम्मुख लगी नेम प्लेट को भी उखाड़ फेंका। विरोध को देखते हुए कुलसचिव को बाइक पर सवार होकर विवि गेट से बाहर निकलना पड़ा और अभ्यर्थियों के भारी विरोध का सामना करना पड़ा। इस दौरान अभ्यर्थियों ने विवि प्रशासन के विरोध में जमकर नारेबाजी की। खबर लिखे जाने तक अभ्यर्थियों में आक्रोश जारी था। वहीं विवि गेट के सामने अभ्यर्थियों ने नेशनल हाईवे पर आक्रोश ने सांकेतिक जाम भी लगाया।
विरोध के बाद देर शाम जारी हुई सूची-श्रीनगर। असिस्टेंट रिजस्ट्रार पद के लिए हुई लिखित परीक्षा का परिणाम देर में घोषित होने पर अभ्यर्थियों के कड़े विरोध के बाद विवि प्रशासन ने देर शाम पौने नौ बजे साक्षात्कार के लिए चयनित अभ्यर्थियों की सूची जारी कर पाया। इस दौरान जिन अभ्यर्थियों का नाम सूचि में शामिल नहीं था उन्होंने विवि की नियुक्ति प्रक्रिया में धांधली का आरोप लगाया। अभ्यर्थियों ने कहा कि विवि ने बिना अनुक्रमांक के ही प्रवेश पत्र जारी कर दिए थे। पर्यावरण की ओएमआर सीट उपलब्ध कराई गई। दूसरी ओर छात्र महासंघ अध्यक्ष दान सिंह, पूर्व महासचिव मनवीर सिंह माही, पूर्व उपाध्यक्ष अंकित कपरवाण, विकास कठैत आदि छात्र नेताओं ने रात नौ बजे तक सूची फर्जी होने के विरोध में उपकुसचिव डा. एके मोहनंती का घेराव किया। विश्वविद्यालय प्रशासन द्वारा असिस्टेंट रिजस्ट्रार के पांच पदों के लिए 53 और जनसंपर्क अधिकारी के एक पद के लिए 11 अभ्यर्थियों को साक्षात्कार के लिए बुलाया गया था।

No comments:

Post a Comment