Friday, June 24, 2011

होम्योपैथिक डिग्री धारियों का संशय हुआ खत्म

हल्द्वानी: भारत सरकार ने कुमाऊं विश्वविद्यालय को पैरा टू में शामिल कर राज्य के होम्योपैथिक डिग्रीधारियों की डिग्री को मान्य कर दिया है। इसके चलते राज्य के 100 से अधिक बीएचएमएस डिग्रीधारी सरकारी नौकरियों में आवेदन कर सकेंगे। राज्य में केवल एक चंदोला होम्योपैथिक कालेज रुद्रपुर में हैं। इस कालेज से अब तक 100 छात्र-छात्राओंने बीएचएमएस की डिग्री हासिल की है। विडंबना यह थी कि कुमाऊं विश्र्वविद्यालय केंद्रीय होम्योपैथिक परिषद के मानकों के अनुसार न होने के कारण पैरा टू में शामिल नहीं था। इसके चलते ऐसे डिग्रीधारियों के न ही रजिस्ट्रार होम्योपैथी मेडिसिन बोर्ड में पंजीकरण हो रहा था और न ही सरकारी अस्पतालों में चिकित्साधिकारी के लिए आवेदन कर सकते थे। इससे अभ्यर्थी से लेकर अभिभावक परेशान थे। चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण भारत सरकार के संयुक्त सचिव डा. डीडी शर्मा द्वारा 14 जून 2011 को जारी पत्र के अनुसार कुमाऊं विश्र्वविद्यालय पैरा टू में शामिल हो गया है। विवि के कुलसचिव डा. केके पांडे ने बताया कि विवि में इस आशय का फैक्स आ गया है। होम्योपैथी मेडिसिन बोर्ड के रजिस्ट्रार सुनील डिमरी ने बताया कि अभी उनके पास लिखित रूप से पत्र नहीं पहुंचा है। चंदोला होम्योपैथिक कालेज के चेयरमैन डा. केसी चंदोला ने कहा कि भारत सरकार के इस नोटिफिकेशन से पूर्व व वर्तमान छात्र-छात्राएं बेहद खुश हैं।

No comments:

Post a Comment