Saturday, November 21, 2009

-उत्तराखंड में बढ़ेगा टाटा की लखटकिया का उत्पादन

-नैनो का उत्पादन ढाई लाख कार प्रति वर्ष करने की योजना -दो माह में 800 से 1000 कार प्रति माह हो जाएगा उत्पादन : उत्तराखंड में बेहतर व्यवसायिक माहौल को देखते हुए टाटा मोटर्स पंतनगर स्थित अपने कारखाने में नैनो का उत्पादन बढ़ाने वाला है। टाटा मोटर्स की अभी पंतनगर से करीब आठ सौ नैनो प्रतिमाह का उत्पादन कर रहा है। उसकी योजना है कि अगले दो माह में इसे 1000 तक ला दिया जाए। इतना ही नहीं वह इसे बढ़ाकर ढाई लाख नैनो कार सालाना करने की जुगत में है। टाटा मोटर्स की इस योजना से प्रदेश सरकार को भी अपने राजस्व में कई गुना बढ़ोतरी की उम्मीद है। गौरतलब है कि सिंगुर विवाद के बाद पश्चिमी बंगाल से उखड़ी टाटा मोटर्स ने उत्तराखंड को कार उत्पादन के अस्थाई ठिकाने के रूप में चुना था क्योंकि उसके पंतनगर स्थित कारखाने में नैनो उत्पादन की क्षमता थी। इतना ही नहीं प्रदेश सरकार ने भी टाटा मोटर्स को नैनो उत्पादन में भरसक सहयोग दिया जिससे देश की पहली नैनो उत्तराखंड में ही बनीं। उत्तराखंड उद्योग निदेशालय के अपर निदेशक एससी नौटियाल ने बताया कि नैनो का उत्तराखंड में उत्पादन बढऩे से राज्य की टैक्स के मार्फत होने वाली आय में कई गुना की बढ़ोत्तरी होगी। एससी नौटियाल ने बताया कि पंतनगर धीरे धीरे ऑटोमोबाइल हब के रूप में प्रसिद्धी पा रहा है। टाटा मोटर्स ही नहीं बल्कि उत्तराखंड में स्थापित विभिन्न आटोमोबाइल कंपनियों ने महसूस किया है कि उत्तराखंड में उत्पादन के लिए अन्य प्रदेशों से बेहतर माहौल है। उन्होंने बताया कि नैनो को दिल्ली में चल रहे इंटरनेशनल इंडस्ट्री फेयर में उत्तराखंड के स्टाल में भी प्रदर्शित किया गया है।

No comments:

Post a Comment