Tuesday, 28 April 2009

पहाड़ में बढ़ा मेडिकल का क्रेज

श्रीनगर। राज्य के पहले राजकीय मेडिकल कालेज श्रीकोट की स्थापना के बाद पहाड़ों के छात्रों का रुझाान मेडिकल क्षेत्र की ओर तेजी से बढ़ता हुआ दिखाई दे रहा है। पहले जहां कुछ प्रतिशत छात्र ही सीपीएमटी आदि मेडिकल की परीक्षाओं के लिए आवेदन करते थे वहीं इसका ग्राफ अब बढ़ गया है। अकेले श्रीनगर पोस्ट ऑफिस से 1० दिनों के अंदर ४०० से अधिक यूपीएमटी के फार्म बिके हैं। ग्रामीण क्षेत्रों के छात्र भी यूपीएमटी परीक्षा में बैठने के लिए आवेदन कर रहे हैं। गढ़वाल के मु2य केंद्र श्रीनगर में मेडिकल कालेज की स्थापना के बाद पहाड़ में छात्रों का मेडिकल के क्षेत्र में जाने के प्रति रुझाान बढ़ रहा है। अन्य राज्यों की अपेक्षा यहां पर शुल्क में भारी छुट मिलने के कारण अभिभावक भी अपने पाल्यों को यूपीएमटी परीक्षा में बैठने के लिए प्रेरित कर रहे हैं। मेडिकल कालेज बनने के बाद यहां पर खुले मेडिकल कोचिंग सेंटर में जाकर छात्र तैयारियां कर रहे हैं। यूपीएमटी परीक्षा तैयारियों में जुटी मेघा रावत, विवेक गैरोला का कहना है कि उनके ग्रुप के अधिकांश बच्चे इंटर के बाद उच्च शिक्षा से हटकर मेडिकल लाइन में जाने के लिए तैयारियों में लगे हुए हैं। मेडिकल के बढ़ते के्रज को देखते हुए अकेले श्रीनगर पोस्ट ऑफिस से चार सौ से अधिक छात्रों ने फार्म खरीदे हैं, मेडिकल कालेज के डीन प्रो. यूके सिंह का कहना है कि पहाड़ी क्षेत्र में मेडिकल कालेज का खुलना यहां के छात्रों के सुनहरे भविष्य के लिए बेहतर विकल्प है। उन्होंने कहा कि इससे छात्रों को कम शुल्क में मेडिकल की पढ़ाई करने का अवसर मिला है। वो अपने करियर को बेहतर मुकाम दे सकते हैं।

No comments:

Post a comment