Saturday, 28 March 2009

पीडि़त ने धस्माना को पहचाना

करनपुर गोलीकांड:

देहरादून, : उत्तराखंड आंदोलन के दौरान वर्ष, 1994 में देहरादून के करनपुर में हुए गोलीकांड की सुनवाई के दौरान गवाह ने तत्कालीन सपा नेता व वर्तमान में कांग्रेस के प्रांतीय मीडिया प्रभारी सूर्यकांत धस्माना को पहचान लिया। गवाह ने अदालत में बयान दिया कि सूर्यकांत धस्माना ने अपने घर की छत से पुलिसकर्मियों के साथ फायरिंग की थी। राज्य आंदोलन के दौरान वर्ष, 1994 में देहरादून के डालनवाला थाना क्षेत्र के करनपुर में आगजनी व पथराव के बाद तीन आंदोलनकारियों पर फायरिंग कर दी गई थी। इस गोलीकांड में एक आंदोलनकारी राजेश रावत की मौत हो गई थी, जबकि राजीव मोहन व रविंद्र रावत घायल हो गए थे। पहले सिविल पुलिस इस मामले की जांच कर रही थी, लेकिन बाद में जांच सीबीआई को सौंप दी गई। इसमें अब तक 22 लोगों की गवाही हो चुकी है। गुरुवार को सीबीआई के विशेष न्यायधीश महेश चंद्र कौशिवा की अदालत में लंबे समय बाद इस मामले की सुनवाई हुई। सुनवाई के दौरान पीडि़त के अलावा आरोपी सूर्यकांत धस्माना व पुलिसकर्मी भी कोर्ट में मौजूद थे। राजीव मोहन ने कोर्ट में गवाही दी कि घटना वाले दिन आगजनी व पथराव के बाद राजेश रावत और रविंद्र रावत के साथ वे पास में नन्हीं दुनिया स्कूल की गली में घुस गए। राजीव ने बताया कि तभी अपने घर की छत पर पुलिसकर्मियों के साथ मौजूद सूर्यकांत धस्माना ने उन पर फायरिंग कर दी। आठ से दस राउंड हुई फायरिंग में राजेश रावत की मौत हो गई, जबकि वे और रविंद्र गोली लगने से घायल हो गए। राजीव ने कोर्ट में सूर्यकांत धस्माना को पहचान लिया, जबकि पुलिसकर्मियों को नहीं पहचान सके। इस मामले में शुक्रवार को दूसरे पीडि़त रविंद्र रावत की गवाही होगी।

pahar1.blogspot.com

No comments:

Post a comment